चेले और शागिर्द

सोमवार, 14 मार्च 2011

नेता जी की बेगम !

नेता जी की बेगम !
मेरे इस इश्क को मंजिल तक पहुंचाना   ,
'कुर्सी ' महबूबा से निकाह पढ़वाना ,
आपकी हर वोट चमत्कार करेगी ,
संग बेगम के मेरी सरकार बनेगी .


                                 शिखा कौशिक
 http://netajikyakahtehain.blogspot.com/


4 टिप्‍पणियां:

यशवन्त माथुर ने कहा…

क्या बात है :):)

शालिनी कौशिक ने कहा…

kursi ki mahima kya kahne.
begam ke roop me lage rahne.bahut badhiya vyangya.badhai..

Manpreet Kaur ने कहा…

हहहः बहुत ही अच्छा पोस्ट है ! हवे अ गुड डे
मेरे ब्लॉग पर आए !
Music Bol
Lyrics Mantra
Shayari Dil Se

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Vaah vaah ... neta ji aise hi hote hain ...