चेले और शागिर्द

शनिवार, 5 मार्च 2011

नेता जी की शादी

नेता जी की शादी है
जनता का बैंड  बजेगा ,
नोटों की माला से दुल्हन
का roop   सजेगा ,

मंडप के स्थान पर
मंच पे होंगें फेरे ,

फिर तारों की छाँव में
उनका भाषण होगा .
[हमाले नेता जी की  छादी में जलूल-जलूल आना ----जनता ]

6 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

अब तो लगता है शादी में शामिल होना ही पड़ेगा.बहुत अच्छा आमंत्रण.आभार...

यशवन्त माथुर ने कहा…

हा हा हा हा
क्या बात है शिखा जी :)

Roshi ने कहा…

varun ji ke contiquency se hai pbt bahut sahi likha hai apne

Atul Shrivastava ने कहा…

अच्‍छी परिकल्‍पना नेताजी की शादी को लेकर।

Anand ने कहा…

dikkat ye hai ki biradari ya mudde ke naam par galat chot ki jati hai. modi ko secularo ne gariyaya wo apna kam karte rahe. rahul bhaiya vikas ke nam pam par nautanki farmate rahte hai to lagata kyu nahi ye hi neta ka asli punarjanm hai. yaron media se kab tak ham hakte jate rahenge, jhud ji bhi soch banaye, ek aur egypt india ko banaye

अहसास की परतें - समीक्षा ने कहा…

Invitation Accepted.
Par khane me kya milega? Bhashan!