चेले और शागिर्द

मंगलवार, 27 दिसंबर 2011

भारतीय जनता की नेता जी से अपील !

भारतीय जनता की नेता जी से अपील !




नेताओं जनता से ये वादा निभाना 
नए साल में मत करना अब कोई घोटाला .


जन-हित में खर्च करना अब जनता का पैसा 
दिखलाना जनता को जन -सेवक हो कैसा 
विश्वास जीत लेना जनता का दोबारा 
नये साल में म़त ..........


न मौत हो अब कर्ज से तुम ये कोशिश करना 
शिक्षा व् रोजगार का सपना तुम सच करना 
पैकेज का सारा  रुपया जनता तक पहुचाना  
नए साल में मत ............


ले नाम जाति-धर्म का हमको न बाँटना   
लड़वाकर हमें आपस में चांदी न काटना 
जिस पद पर हो आसीन उसकी गरिमा बढ़ाना 
नये साल में मत ......
                                                 शिखा कौशिक 
                                 [नेता जी क्या कहते हैं ?]



सोमवार, 19 दिसंबर 2011

CONTRADICTION [विरोधाभास ]


CONTRADICTION  [विरोधाभास ]


WE WANT DEMOCRACY [ हम लोकतंत्र चाहते हैं ]
BUT NEVER DENOUNCE [पर कभी निंदा नहीं करते] 
ABSOLUTE RULE ![तानाशाही की ]


WE WANT JUSTICE  [हम न्याय चाहते  हैं ]
BUT NEVER LISTEN [पर कभी नहीं सुनते ]
TO OUR SOUL ![अपनी आत्मा की ]


WE WANT UNITY [हम एकता चाहते  हैं ]
BUT NEVER DIMINISH [पर कभी नहीं कम करते ]
COMMUNAL HOLE ![सांप्रदायिक गड्ढो को ]


WE WANT HEALTHY [हम चाहते हैं स्वस्थ- ]
CRITICISM BUT NEVER [-आलोचना पर कभी नहीं ]
PLAY POSITIVE ROLE ![अदा करते सकारात्मक भूमिका ]


WE WANT HONEST LEADERS [हम ईमानदार नेता चाहते हैं ]
BUT NEVER PREFER [पर कभी नहीं प्राथमिकता देते हैं ]
HONESTY IN POLL ! [चुनाव के समय ईमानदारी को ]


                                              SHIKHA KAUSHIK 

रविवार, 18 दिसंबर 2011

आयें पांच साल में अपनी सरकार है !







आया  है आज कौन ? किसकी ये जयकार है ?
बिजली पानी की आई कैसे बहार है ?
नादानों कुछ पहचानों मुश्किल दीदार हैं !
आयें पांच  साल में अपनी  सरकार  है .

सिंथेटिक  दूध लाओ ;लाकर के   इन्हें पिलाओ ;
नकली मावे के पेड़ों  का  इनको  भोग  लगाओ ;
ऐसा न हो जो स्वागत हमको धिक्कार है !
आये हैं पांच साल में ............


फिर चलें सड़क पर जब वे ;उनको ये समझाना ;
गड्ढों में सड़क है कहीं गिर नहीं जाना ;
फिर भी लुढ़क जाएँ ....खुद जिम्मेदार है !
आयें हैं पांच साल .....


जब देने लगें भाषण और करने लगें वादे 
दिखलायें राम खुद को पर रावण से इरादे 
दिखला दो उनको ठेंगा ;असली गद्दार हैं 
आयें हैं पांच साल में ...................

                                                   शिखा कौशिक 
                                 [नेता जी क्या कहते हैं ?]
                                                                

बुधवार, 14 दिसंबर 2011

जागो नेताओं जरा मत होने दो अपमान

lalu-prasad.jpg


करवाना अब चाह रहे अन्ना तो  विद्रोह 
लालू लेकर आये हैं उनके मन की टोह
''संसद में गुंडे बैठे ''अन्ना कैसे कहते ?
चुप रहकर सारे नेता ये सब कुछ क्यों सहते ?
संसद में आना नहीं ''अनशन'' जैसा आसान
जागो नेताओं जरा मत होने दो अपमान  .

                                 शिखा कौशिक 
 



रविवार, 11 दिसंबर 2011

नेता जी का हिसाब -किताब लोकपाल पर

नेता जी का हिसाब -किताब लोकपाल पर 



सरकार + लोकपाल बिल = अन्ना टीम खिलाफ 


अन्ना टीम जन लोकपाल बिल =भ्रष्टाचार साफ़ 


अन्ना + उपवास =जनता का विश्वास 


अन्ना टीम + जनता =जन लोकपाल बिल पास


                                                  शिखा कौशिक 
                    [नेता जी क्या कहते हैं ? ]

रविवार, 27 नवंबर 2011

सपने में हाथी दिखे ,इसका फल समझाएं ?

[राहुल, कांग्रेस को सपने में खदेड़ता है हाथी : मायावती]



[google se sabhar ]
सपने में हाथी दिखे ,इसका  फल समझाएं  ,
पंडित जी हँसकर कहें -पहले यह बतलाएं 
कौन पहर देखा उसे? कैसी उसकी चाल ?
गर वो था बी.एस .पी. का तो आगे कौन हवाल ?
                            शिखा कौशिक  

शरारती छात्र राहुल -मैडम माया नाराज !

शरारती छात्र राहुल -मैडम माया नाराज !

Chief Minister of the state of Uttar Pradesh, Mayawati addresses the ...
मैडम माया कर रही राहुल की कान खिचाई ;
संसद क्लास बंक करी ,मैडम को नहीं भायी;
प्रश्नोत्तर सब छोड़कर ,राहुल करता नौटंकी;
माया के स्कूल की बज गयी छुट्टी की घंटी .
                                              शिखा कौशिक 

शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

नेता हड़ताल क्यों नहीं करते ?

नेता हड़ताल क्यों नहीं करते ?
Sharad Pawar
नेताओं के धैर्य  का जवाब नहीं होता ;
कितने कर्तव्यनिष्ठ  है ?हिसाब नहीं होता ;
जिस मुद्दे पर यूनियन कर देती हैं हड़ताल 
उस मुद्दे को नेता जी पुलिस पे देते टाल !
                                                   शिखा कौशिक 

बुधवार, 23 नवंबर 2011

अन्ना ! सत्ता मद दूर करने के लिए कितने डंडे लगाने चाहियें ?

अन्ना ! सत्ता मद दूर करने के लिए कितने डंडे लगाने चाहियें ?
Anna-Hazare.jpgManish Tiwari said that i am all for a strong and effective Lokpal. I ...
[गूगल से साभार ]
अन्ना सच हैं बोलते पर नेता करें विरोध ;
उनके हर एक बयाँ पर नेता करते हैं क्रोध ;
बड़ी सही उक्ति कही; छुडवाने को मधुपान  ;
सत्ता मद में चूर  कहें इसे तालिबानी-फरमान   .

                              शिखा कौशिक 
               [नेता जी क्या कहते हैं ? ]

रविवार, 20 नवंबर 2011

योग गुरु ये क्या कहा ?


योग गुरु ये क्या कहा ?

[बाबा रामदेव ने कल मिर्जापुर में  कहा है कि-राहुल गाँधी पी.एम्.बनने  का ख्वाब देख रहें है जबकि इस दौड़ में उनका नाम कहीं नहीं है .]
Baba RamdevRahul Gandhi
[google se sabhar]
कुछ भी तुम हो बोलते ;कौन तुम्हे समझाएं ?
योग गुरु ये क्या कहा ?सब जन हँसी उड़ायें ;
वर्षों से जो खुद रहा इस पद को ठुकराए ;
पी.एम्. पद की दौड़ में वो क्यों  दौड़ लगाये ?
                                        शिखा कौशिक 

दो बेचारे !


दो बेचारे !


पहला   पी .एम् . बनकर  पछता  रहा  ;
दुसरे   को  पी .एम् . न  बनने  का  गम  खा  रहा  ;
दूसरे  को  पहले  पर  ''दया  '' आ  रही  
और  हम  को दोनों पर  रोना  आ  रहा  .
                                               शिखा कौशिक 
                       [नेता जी क्या कहते हैं ]

मंगलवार, 15 नवंबर 2011

इलेक्शन आने वाला है !

इलेक्शन आने वाला है !



मेरे दरवाजे पर  हुई थी खट खट
मैं चला खोलने उसको झट पट 
वे खड़े हुए थे हाथ जोड़कर  
मैं देख रहा था उन्हें चौककर 
फिर समझ में आया ये सब क्या गड़बड़झाला है ?
इलेक्शन आने वाला है !




वे बोले हम हैं सेवक और तुम हो स्वामी 
हम दीन हीन से भक्त ;तुम अंतर्यामी 
वे झुके चरण छूने को ज्यों ही नीचे 
मैं हटा बड़ी तेजी से थोडा पीछे 
वे बोले हाथ तुम्हारे अब लाज बचाना है .
इलेक्शन आने वाला है !

जो काम कहोगे सब कर देंगें
बर्तन मान्जेंगें ;कपडे धो देंगें
हम एक जात के ये भूल न जाना
बस नाम हमारे पर बटन दबाना
वोट मांगने का उनका अंदाज निराला है .
इलेक्शन आने वाला है !




मैं बोला दूंगा वोट सोच समझ कर
जात धर्म से ऊपर उठकर
तुम तो करते हो झूठे वादे
नहीं रखते हो तुम नेक इरादे
जनता जीजा होती है और नेता साला है .
इलेक्शन आने वाला है !




वे बोले लगता तुझे समझ न आया
तू नहीं जानता नेता की माया
तू न सुधरा तो उठवा लेंगें
तेरी वोट खुद ही हम डलवा  लेंगें 
हम तन के उजले हैं पर मन तो काला है .
इलेक्शन आने वाला है !


                                  शिखा कौशिक















मंगलवार, 8 नवंबर 2011

नेता जी क्या कहते हैं ?


जिस जनता की खातिर 
हम तिल-तिल कर हैं मरते ,
सरकारी गाड़ी में हम 
दौरे करते फिरते ;
वो जनता जब  देती  ताने 
वो भी सहते हैं ,
नेता जी क्या कहते हैं ?

वोट के बदले नोट हैं देते 
उन्हें पिलाते दारू ,
सत्ता-दूध इसी से मिलता 
जनता गाय दुधारू ;
ये जो रूठे;सपने टूटे 
आंसू बहते हैं ,
नेता जी क्या कहते हैं ?

मीठे-मीठे भाषण देकर 
झूठे करते वादे ;
घोटाले करते रहते 
वैसे हैं सीधे-सादे ;
सत्ता पाकर सत्ता-मद में 
डूबे रहते हैं ;
नेता जी क्या कहते हैं ?

ए. सी. रूम  के भीतर  
नीति  निर्धारित करते 
लूट के जनता का पैसा 
अपने घर में भर लेते ;
जनता जूते मारे तब भी 
हम हँस देते हैं ;
                                                     शिखा कौशिक 


सोमवार, 7 नवंबर 2011

राजनीति है जहर !

राजनीति है जहर !



एक पार्टी के पीछे क्यों पड़े हो अन्ना ?
सभी चूसती खून समझ जनता को गन्ना ;
संभल-संभल कर चलो ;बचा कर खुद को रखना ;
राजनीति है जहर,बड़ा घातक है चखना .

  शिखा कौशिक 

शुक्रवार, 4 नवंबर 2011

मान हमारा अहसान अन्ना !

मान  हमारा अहसान अन्ना !
                      [google se sabhar]
एक ओर तो योगगुरु  कर रहे खुलेआम ऐलान  
मैंने ही दिलवाई अन्ना को उत्तर में पहचान  
वही दूसरी ओर BJP कहती  सीना तान 
बचा हमारे ही कारण अन्ना का  सम्मान 
                                    शिखा  कौशिक 

शुक्रवार, 28 अक्तूबर 2011

नेता जी की शुभ-दीपावली !

नेता जी की शुभ-दीपावली !


कितनी खुशियाँ लेकर आया दीवाली त्यौहार 
अन्ना-टीम करने लगी एक दूजे पर प्रहार 
संकट के दिन सब कटे ;आने लगी बहार 
मुझाये नेता- ह्रदयों पर  खुशियों की हुई फुहार  .

                                 शिखा  कौशिक 

बुधवार, 19 अक्तूबर 2011

लोकतंत्र की हार !

लोकतंत्र  की हार !
Arvind Kejriwal

लखनऊ में अरविन्द पर चप्पल का प्रहार ;
साजिश का एक रूप है या गुस्से का इजहार;
करने वाले कर रहे इस पर बड़ा विचार ;
नेता जी की राय में -ये लोकतंत्र की हार ! 
                                        शिखा कौशिक 

मंगलवार, 18 अक्तूबर 2011

मतभेदों की गाँठ


मतभेदों  की  गाँठ 

एक  हफ्ते को  हो  गए  अन्ना  तो  हैं  मौन  ;
भूषन अन्दर-बाहर हों -निर्णय लेगा  कौन ?
भ्रष्टाचार मिटाने को जो लोग चले थे साथ ;
उनके ही दिल में पड़ी  लो मतभेदों की गाँठ .
          
                               शिखा  कौशिक 
               [नेता जी क्या कहते हैं ? ]

मंगलवार, 6 सितंबर 2011

''माया का अरमान ''





Ladies Sandals Free Stock Photo

[dreamstimes से साभार ]
आग  लगे विकिलिक्स को ;खोले मेरी पोल ,
सत्ता-रस-आनंद में दिया कटु विष घोल ,
जो सैंडल मंगवाई थी ;भेज के एक विमान ,
उससे उसको पीट दूं ;बस इतना है अरमान .

                       शिखा कौशिक 

सोमवार, 5 सितंबर 2011

नेता जी ने खोजा नया अलंकार !


Nitin Gadkari, Arun Jaitley Pictures & Photos

[सुलेख .कॉम से साभार ]

'अन्ना के नेतृत्व में  हम  बढ़ने को तैयार '
नितिन गडकरी ने कहा तो मच गया हाहाकार ;
अरुण जेटली समझाते -समझो मेरे यार ;
इस  कथन में छिपा है -''भ्रष्ट -अलंकार''

                              शिखा कौशिक 
[इस पोस्ट पर ''भड़ास '' पर रविकर जी की  टिप्पणी आई जो अति सुन्दर है .यहाँ उसे लगा रही हूँ .पढ़िए -
Blogger रविकर said...

वाह!

गडकरी नहीं ये ढोल है |
अन्दर पोलमपोल है |

कांग्रेस को अवसर देता --
पोल रहा अब खोल है |

अन्ना के आन्दोलन में भी
आर एस एस का रोल है |

समय-समय पर अध्यक्ष जी की
जाय जुबाँ यूँ डोल है ||

शनिवार, 3 सितंबर 2011

NOT A BAD IDEA LALU JI !




मीरा  ने करवाए दी मेरी निद्रा भंग ; 
यूँ भी बैठ के सोने से हो जाता हूँ तंग ,
लेकर पटना से आऊंगा अबके अपने संग ,
संसद में बिछ्वाऊंगा बढ़िया एक पलंग !
शिखा कौशिक 


गुरुवार, 1 सितंबर 2011

मानवता पर इल्जाम -नेता जी की राय !


Omar Abdullah Photos


Omar Abdullah



टिवटर   पर लिखा गजब;उठा हुआ तूफ़ान ,

चिंगारी को आग बनाना मीडिया का है काम,

हत्यारे फांसी चढ़ें ; हो उनका काम तमाम ,

इन पर दया दिखाना है मानवता पर इल्जाम.

                                     शिखा कौशिक 

मंगलवार, 30 अगस्त 2011

नेता जी की ओर से ''ईद मुबारक ''



ओम पुरी व् किरण ने किया बदनाम है नाहक ,
नेताओ के विरुद्ध ये करते प्रचार भयानक ,
नेता-जनता मिलन ही ; है देश-विकास सहायक ,
छोडो  ये सब बात अब ;पहले हो 'ईद मुबारक'



रविवार, 28 अगस्त 2011

ANNA WHY DID YOU BREAK OUR HEART-NETA JI ASKED HIM !

 

ANNA WHY DID YOU BREAK OUR HEART-NETA JI ASKED HIM !

अन्ना  ने तो तोड़ दिया अब अपना उपवास,
लेकिन  हम नेताओं का पत्ता  कर  दिया साफ़ ;
मुंह  छिपाते  फिर  रहे ;आती नहीं है  साँस;
सारी  जनता उड़ा  रही हम सबका उपहास .


                                       शिखा कौशिक 
               http://netajikyakahtehain.blogspot.com

रविवार, 21 अगस्त 2011

नेता जी की अपील ''शोर मत मचाओ ''

नेता जी की अपील ''शोर मत मचाओ ''
Supporters of Indian rights activist Anna Hazare shout slogans during a rally in Mumbai, India, Tuesday, Aug. 16, 2011. The prominent activist who had announced an indefinite hunger strike to demand tougher anti-corruption laws was detained early Tuesday morning, police said.(AP Photo/Rafiq Maqbool)
     [yahoo न्यूज़ से साभार ]

 ना डंडे से डरते हैं  ,  न बारिश से डरते हैं,
''अन्ना'' के समर्थक  शोर बहुत  करते हैं,
ये  सुनकर मैंने तो कानों पर रख लिए हाथ हैं
''अन्ना तुम संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं''

                                   शिखा कौशिक http://netajikyakahtehain.blogspot.com

                                 

गुरुवार, 18 अगस्त 2011

सत्ता विहीन नेता जी का अन्ना को समर्थन !


भूल न जाना अन्ना तुम अपना कारावास ,
पंद्रह दिन गर्दन दबा; भ्रष्टों की रोको साँस ,
मैं भी साथ तुम्हारे हूँ; कर लो अब विश्वास ,
सच का देता साथ मैं; सत्ता न हो जब पास .

                           शिखा kaushik 

रविवार, 14 अगस्त 2011

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें !

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें !

भाइयो और बहनों -आज का दिन यादगार है ,
आजादी मिली  थी हमें ;ये राष्ट्रीय त्यौहार है,
हर साल की भांति हमारे भाषण का यही सार  है,
कुछ हो चुके हैं और कुछ घोटाले होने को तैयार हैं.
जय भ्रष्ट सरकार  की !
शिखा कौशिक 


मंगलवार, 2 अगस्त 2011

मानसून सत्र !

मानसून  सत्र !
संसद में घिर आयें हैं टकराव के बादल
सुन विपक्ष का गर्जन  ,सत्ता  रही दहल 
बनकर  'सुषमा' दामिनी कड़क -कड़क कर  बोले  
बिना मुंडाएं पड़  गए मनमोहन के सिर ओले .
                         शिखा कौशिक 

शनिवार, 30 जुलाई 2011

ठंड रख कलमाड़ी !

ठंड रख कलमाड़ी !
Suresh Kalmadi by cricfan
अदालत  ने पूछे ये कैसे सवाल ?
गलते-गलते रह गयी मेरी काली दाल,
कैसे जान गए वे मेरी तिनको वाली दाढ़ी ?
मन को समझाना होगा !ठंड रख कलमाड़ी .
                     शिखा कौशिक

गुरुवार, 28 जुलाई 2011

पाक हिना का रंग !

पाक  हिना का रंग   !
Hina Rabbani Kher
हिंद-पाक वार्ता  आशा नयी जगाती है ;
भाइयों के बीच आई दूरियां मिटाती  है ;
''कृष्ण ''की बंसी  सदा से प्रेम राग गाती है ;
देखते हैं  पाक हिना  कैसा रंग दिखाती है ?
      
                        शिखा कौशिक




मंगलवार, 26 जुलाई 2011

राजा जी क्या कहते हैं ?

राजा जी क्या कहते हैं ?

सरकारी  नीति का मैं करता रहा हूँ पालन
सन ९३ से यही करते रहें हैं शौरी-मारन
मेरी नीति से मिली मोबाईल की सस्ती दर 
अब रिक्शावाला तक मोबाईल रखता घर 
अगर स्पेक्ट्रम घोटाले में मेरा है कोई दोष 
तब पी.em. और चिदंबरम कैसे हैं निर्दोष ? 
                
                              शिखा कौशिक

रविवार, 24 जुलाई 2011

नेता जी की गर्दन -लोकपाल का फंदा

नेता जी की गर्दन -लोकपाल का फंदा
लोकपाल के मुद्दे पर जब झुकी नहीं सरकार
अन्ना ने भी चमका ली तब  विरोध - तलवार 
आमिर-कृष्णा-नारायण जैसे  योद्धा करें समर्थन 
लोकपाल के फंदे में अब नेता जी की गर्दन . 

                               शिखा कौशिक

शनिवार, 23 जुलाई 2011

नेकी कर दरिया में डाल

नेकी   कर    दरिया   में   डाल
Amar Singh
वोट   के बदले नोट दिए तब बच पाई सरकार
ऐसे अदभुत काम पर मिलते हैं पुरस्कार 
अमर सिंह यही सोचते ,सी.बी.आई.करे सवाल 
फिर दिल को समझा लेते ''नेकी कर दरिया में डाल  '' 
                                        
                   शिखा kaushik