चेले और शागिर्द

गुरुवार, 3 मार्च 2011

नेता जी की सद्भावना

राजनीति में आकर हर खेल खेल जाते हैं ;
जीत न मिली तो भारी  हार झेल जाते हैं ,
जिनके खिलाफ बोलकर हम वोट मांगते हैं
वो सामने पड़ जाये तो ''सद्भाव '' दिखाते हैं .
                                                               
                                                 शिखा कौशिक
                                     http://netajikyakahtehain.blogspot.com/

4 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

peeth peechhe muhn moden ,
samne aake hath joden.
bahut achchha laga..

यशवन्त माथुर ने कहा…

बहुत बढ़िया :)

अहसास की परतें - समीक्षा ने कहा…

सामने सद्भावना दिखाने को मानवता का तकाजा कहने वाले ये नेता इसी तकाजे को आसानी भुला देते हैं पीठ पलटते ही।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

Ekdam Sateek