चेले और शागिर्द

मंगलवार, 19 जुलाई 2011

राजा सड़कछाप !

Digvijay Singh


दिग्गी राजा  सड़कछाप ;    संघ का है आरोप ;
बक बक करता फिर रहा ;बुद्धि का हो गया लोप ;
राजा  है  खुर्रम  बड़ा ;  न  लेने  देता  चैन ;
संघ पे धावा बोलता ;दिल्ली हो या उज्जैन .
                                    शिखा कौशिक 


1 टिप्पणी:

शालिनी कौशिक ने कहा…

शानदार अभिव्यक्ति