चेले और शागिर्द

शुक्रवार, 8 जुलाई 2011

दयानिधि के इस्तीफे में देरी क्यों ?

दयानिधि के इस्तीफे में देरी क्यों ?



मैं तो सीधा -सच्चा हूँ ;

क्या जानूं क्या घोटाला ?

ऊपर से लगवा डाला

मैडम ने मुंह पर ताला ;

इस्तीफे लेने में मुझसे

हो गयी देर -सबेर ;

मेरे घर में ''देर '' है

पर नहीं कभी अंधेर .


शिखा कौशिक

http://netajikyakahtehain.blogspot.com

2 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

andher nagri chaupat raja vali sthiti ko bahut khoobsurati se byan kiya hai.badhai shikha ji.

kanu..... ने कहा…

bahut acche