चेले और शागिर्द

मंगलवार, 19 मई 2015

मोदी :राष्ट्रनायक नहीं खलनायक !

Modi statements ??cause trouble for them

 मोदी ने की देश की बेइज्जती 

 मोदी ने कहा था कि कुछ समय पहले तक भारतीय देश में पैदा होने पर शर्म महसूस करते थे।

जब तक केंद्रीय सत्ता में नहीं थे ये 
भारत में जन्म लेने पर 
शर्म आती थी इन्हें !
...............................................
सत्ता में आते ही 
चमत्कार कर डाला 
भारत को तीन सौ पैंसठ दिन में 
विश्व की महाशक्ति बना डाला !
.................................................
एक वर्ष में तीस से ज्यादा 
विदेशों की यात्रा ,
ये है मोदी सरकार की 
उपलब्धि ,
विदेशी धरती पर 
दिए ऐसे भाषण कि
शर्मिदा है हर भारत वासी 
अरे मोदी जी !
भारत की अस्मिता 
मिटटी  में मिलकर रख दी !
..........................................
भारत को विश्व में सम्मान 
दिलाने वाले हमारे पूर्वज भी 
देख रहे होंगें ,
ये कैसा राष्ट्र-नायक आया ?
जिसने उनके अमूल्य योगदानों को 
दो  कौड़ी का बताया 
और सूट-बूट पहनकर 
खुद पर ही इतराया !
......................................
ऐसे राष्ट्र-खलनायक 
पर लगना चाहिए 
राष्ट्र-अपमान का अभियोग !
शेख़चिल्लियों की जुबानों 
पर लगे निर्णायक रोक !
................................
सदैव से है 'भारत '
विश्व का गौरव ,
क्या बीता हुआ कल और 
क्या आने वाला कल ,
अगली बार जब चुनों 
राष्ट्र-नायक 
भावनाओं से ऊपर 
रखना अक्ल !

शिखा कौशिक 'नूतन'  



1 टिप्पणी:

Rangraj Iyengar ने कहा…

विचारों का बेखौफ उद्धरण...
वह भी शालीन भाषा में..

मुबारक हो..

laxmirangam.blogspot.in