चेले और शागिर्द

शुक्रवार, 27 दिसंबर 2013

''हाकिम तो मसरूफ है !''

सैफई महोत्सव का शानदार आगाज
जिस दिन से सत्ता पाई है हाकिम तो मसरूफ है ,
हैं दीदार बहुत ही मुश्किल हाकिम तो मसरूफ है !
.............................................................
पेट पिचककर लगा कमर से ज़ालिम कितनी भूख है ,
किसे पुकारें हाथ उठाकर हाकिम तो मसरूफ है !
..................................................................
खींच खींच कर एक चिथड़े से बदन ढक रही बहनें हैं ,
आप बचा लो अपनी अस्मत हाकिम तो मसरूफ है !
...........................................................
दूध दवा पानी को तरसें नन्हें मुन्ने बिलख बिलख ,
मरते हैं तो मर जाने दो हाकिम तो मसरूफ है !
.............................................................
बिल्कुल नहीं मिटेगा ऐसे दर्द गरीबों का 'नूतन' ,
जब तक सत्ता मद में डूबा हाकिम तो मसरूफ है !

शिखा कौशिक 'नूतन'

1 टिप्पणी:

ब्लॉग - चिठ्ठा ने कहा…

आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (27 दिसंबर, 2013) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा