चेले और शागिर्द

शनिवार, 11 जून 2011

सच बोलने पर जूते-नेता जी को क्यों लगे ?

सच  बोलने पर जूते-नेता जी को क्यों लगे ? 




नेता जी के लग गए जूते कई हजार ;
सच बोले थे आज वे जीवन में पहली बार ;
बोले थे वे मंच से ''जनता है बेईमान '';
क्यों देकर के घूस वो करवाती है काम ?
नेता जी की बात में यूँ तो थी सच्चाई ;
पर नौकरशाही का भला ;जनता क्या कर ले भाई !
                                                शिखा कौशिक 

1 टिप्पणी:

शालिनी कौशिक ने कहा…

sach hai satya koi nahi sunna chahta.bahut khoob kahi.