चेले और शागिर्द

शुक्रवार, 1 अप्रैल 2011

डाकू नेता या नेता डाकू !

डाकू नेता या नेता डाकू !

''डाकू से नेता बना ,रख दी थी बन्दूक,
कुछ दिन में ही जान गया ,ये थी मेरी चूक,
बीहड़ में तो कभी कभी लेता था इसे हाथ,
नेतागर्दी में सदा रखनी पड़ती साथ .''
                                
                                    शिखा कौशिक
             http://netajikyakahtehain.blogspot.com/

6 टिप्‍पणियां:

एम सिंह ने कहा…

हमेशा की तरह इस बार भी आपने अच्छा शॉट मारा है। बधाई।

दुनाली

एम सिंह ने कहा…

Powerful.
++++++++

शालिनी कौशिक ने कहा…

behtar abhivyakti.

सारा सच ने कहा…

मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

Udan Tashtari ने कहा…

सटीक!!

anshumala ने कहा…

बिलकुल सही कहा |