चेले और शागिर्द

शुक्रवार, 20 जून 2014

राष्ट्रभाषा पर विवाद क्यों ?

[ NEW DELHI: Two Home Ministry circulars seeking to promote official language Hindi in the social media has raked up a controversy with DMK accusing the Centre of imposing the language on non-Hindi speaking sections.]
हिंदी भाषा के सम्मान में प्रस्तुत है ये रचना -क्योंकि हिंदी किसी की दया से राष्ट्र भाषा के पद पर आसीन नहीं है .ये हिंदुस्तान का दिल है ...धड़कन है .स्वाधीनता संग्राम में पूरे देश को एक सूत्र में बांध देने की कोशिश गाँधी जी ने हिंदी में ही की थी और बंगाली बाबू नेता जी सुभाष चन्द्र बोस जी ने भी बंगाली भाषा प्रेमियों की आलोचना को सहकर हिंदी को ही राष्ट्रभाषा माना था क्योकि केवल हिंदी में ही वो दम है जो पूरे भारत को जोड़ सकती है .जो इसका अपमान करे उसे कठोर दंड मिलना चाहिए ....

हिंदी तो दिल है हिंदुस्तान का
सित -तारा भाषा आसमान का
ये है प्रतीक स्वाभिमान का
क्या कहना हिंदी जबान का !
........................................................
हिंदी में ही दस कबीर ने गाकर साखी जन को जगाया
तुलसी सूर ने पद रच रच कर अपने प्रभु का यश है गाया
हिंदी में ही सुमिरण करती मीरा अपने श्याम का
क्या कहना हिंदी जबान का .......
..........................................................
हिंदी सूत्र में बांध दिया था गाँधी जी ने भारत सारा
अंग्रेजों भारत को छोडो गूँज उठा था बस ये नारा
इसको तो हक़ है सम्मान का
क्या कहना हिंदी जबान का ......
.................................................................
इसकी लिपि है देवनागरी ;इसमें ओज है इसमें माधुरी
आठ हैं इसकी उपबोली ;ऊख की ज्यों मीठी पोरी
हिंदी तो अर्णव है ज्ञान का
क्या कहना हिंदी जबान का .......

''जयहिंद '

शिखा कौशिक 'नूतन'

4 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

हिंदी सूत्र में बांध दिया था गाँधी जी ने भारत सारा
अंग्रेजों भारत को छोडो गूँज उठा था बस ये नारा
इसको तो हक़ है सम्मान का
क्या कहना हिंदी जबान का ......

ekdam sahi kaha aapne aur prabhashali dhang se .thanks

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

राष्ट्रभाषा का विरोध किया जाना गलत है !!

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन छोटी सी प्रेम कहानी - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Rangraj Iyengar ने कहा…

शिखा जी,

आपकी हिंदी संबंधी यह कविता अच्छी लगी. एक जानकारी देना चाहता हूँ. हिंदी न अभी और न ही कभी देश की राष्ट्रभाषा थी . देश में राष्ट्रभाषा नाम की कोई भाषा कभी नहीं रही. हिंदी हमारे देश की राजभाषा है. कृपया इस पर सोचें. यदि आपका हिंदी से लगाव हो तो HINDI KUNJ.COM में मेरी राजभाषा पर शृंखला चल रही है देखें.

अयंगर.
laxmirangam.blogspot.in