चेले और शागिर्द

मंगलवार, 21 अगस्त 2012

गद्दी दी है गद्दारी की छूट नहीं

गद्दी  दी  है गद्दारी  की  छूट  नहीं 

जनता  सच  कहती  है इसमें  झूठ  नहीं है ;
गद्दी  दी  है गद्दारी  की  छूट  नहीं .

ठीक  है तुम  संसद  में  बैठो  हम  सड़कों  पर ;
हरा  भरा  जनतंत्र  है सूखा  ठूठ  नहीं है .

हिन्दू - मुस्लिम - सिख- इसाई  में मत  बांटो  ;
हिन्दुस्तानी  हैं  हममे  कोई  फूट  नहीं है .

भ्रष्टाचारी  जो है उसको फांसी दे  दो  ;
जनता का  है पैसा  कोई लूट  नहीं है .

लगा  लाल  बत्ती  न  हम पर  रौब  जमाओं  ;
नेता  जनता का सेवक  देवदूत  नहीं है .
 
                          शिखा  कौशिक  

3 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

ek ek bat satya hai .नारी के तुल्य केवल नारी

हमारीवाणी ने कहा…

आपके द्वारा जोड़े गए सभी नए ब्लॉग्स पर लगे हमारीवाणी क्लिक कोड ठीक नहीं है और इसके कारण हमारीवाणी लोगो पर क्लिक करने से आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर प्रकाशित नहीं हो पाएगी. कृपया लोगिन करके सही कोड प्राप्त करें और पुराने कोड्स की जगह लगा लें. क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.

http://www.hamarivani.com/news_details.php?news=41

टीम हमारीवाणी

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

Nice.