चेले और शागिर्द

सोमवार, 24 जून 2013

राजनीति का समीकरण - राज [ नाथ ] _ [नीति (ईश् ) ]=मोदी

सर्वाधिकार सुरक्षित [do not copy]


बीजेपी  मजबूर है , दिल्ली बहुत दूर है !
आडवानी स्वीकार नहीं ,मोदी में बहुत ग़ुरूर है !
**********************************
कमल बना अब लोहा है ,मर्यादा चकनाचूर है !
सत्ता पाने को तत्पर इनका नहीं कसूर है !
***********************************
बांटों भारत की जनता रखना याद जरूर है !
मन्दिर वही बनाने का ,लालच देते भरपूर हैं !
************************************
बतलाती है बीजेपी ,अपना तो ये दस्तूर है !
बिन सत्ता नेता विधवा सत्ता ही सिन्दूर है !
*******************************
सिर पर चढ़कर बोलता मोदी का खूब फितूर है !
कुनबा टूट चुका इनका  मोदी नामंज़ूर है !
***********************************

बीजेपी की राजनीति अब राज ......और ....राज ही रह गयी है क्योंकि नीतीश कुमार के अलग होते ही राज से  नीति तो स्वयं अलग हो गयी

राजनीति का समीकरण -

राज [ नाथ ] _ [नीति (ईश् ) ]=मोदी

शिखा कौशिक 'नूतन'

1 टिप्पणी:

Shalini Kaushik ने कहा…

aji matr door hi nahi bahut door aur baki aag me ghee dalne ka kam to apki ye prastuti kar hi rahi hai .very nice presentation .