चेले और शागिर्द

रविवार, 15 नवंबर 2015

आतंक के चेहरे पर ; किस मुंह से थूकते हैं !

महाराणा प्रताप बटालियन ने मनाया बलिदान दिवस

मुंबई में मना गोडसे का 'बलिदान दिवस'


जो गांधी के हत्यारे ;
गोडसे को पूजते हैं ,
आतंक के चेहरे पर ;
किस मुंह से थूकते हैं !
.......................................
गोडसे था मोहरा ;
पीछे थे लोग शातिर ,
जो रच रहे थे साज़िश ;
छद्म- हिंदुत्व खातिर ,
निहत्थे मसीहा के
कीलें ये ठोकते हैं !
आतंक के चेहरे पर ;
किस मुंह से थूकते हैं !
...................................
दहशत फ़ैलाने वाले ;
बस क़त्ल करते जाते ,
मासूम खून से हैं ;
वो हाथ रंगते जाते ,
इंसानियत के दिल पर ;
चाकू  ये घोंपते हैं !
आतंक के चेहरे पर ;
किस मुंह से थूकते हैं !
......................
जायज़ न कहो हरगिज़ ;
बापू के क़त्ल को तुम ,
और मत करो शर्मिंदा ;
कातिल को पूजकर तुम ,
उन्मादियों से हम सब
बस इतना पूछते हैं !
आतंक के चेहरे पर ;
किस मुंह से थूकते हैं !

शिखा कौशिक 'नूतन'

3 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

you'r very right .

Ashok Khurana ने कहा…

हकीकत है।

Ashok Khurana ने कहा…

हकीकत है।