चेले और शागिर्द

सोमवार, 2 सितंबर 2013

जेल अपवित्र न हो जाये भोंपू जी ?-राजनैतिक लघु कथा



दुष्कर्म  के  आरोपी  निराशा रावण  भोंपू  को  बड़े  प्रयासों  के  पश्चात्  जब  पुलिस  पकड़कर  जेल  ले  जा  रही  थी  तब  अत्यधिक कातर वाणी में वे बोले -'' जेल भेज तो अपवित्र हो जाऊंगा .'' उन्हें पकड़कर ले जाती  महिला पुलिसकर्मी ने व्यंग्य में मुस्कुराते हुए कहा -'' भोंपू जी सर्वप्रथम तो आप जैसे कुपुत्र को जन्म देकर आपकी जननी की कोख अपवित्र हुई ,आपने जिस दिन इस वसुधा पर अपने चरण रखे तब यह वसुधा अपवित्र हुई .आपने जिस दिन प्रवचन देना आरम्भ किया सारी दिशाओं  की वायु अपवित्र हो गयी और सब छोडिये आपने अपने दुराचरण से श्रद्धा -आस्था-भक्ति जैसी निर्मल भावनाओं को अपवित्र कर डाला .और आप जेल जाने से अपवित्र हो जायेंगें ? हा हा ...दुष्ट तुझ जैसे पापियों को तारने के लिए जेल ही गंगा माता का रूप धरती है .जैसे गंगा माता के पवित्र जल में डुबकी लगाकर सारे पाप धुल जाते हैं वैसे ही शायद आपके पाप जेल में रहकर ही धुल पायेंगें पर मुझे तो ये चिंता सता रही है कि आपके गुनाहों से जेल की चारदीवारी ही न हिल जाये .''  ये कहकर महिला पुलिसकर्मी ने एक घृणा भरी दृष्टि सफ़ेद कपड़ों में लिपटे उस दुष्कर्मी भोंपू पर डाली और खींचते हुए उसे पुलिस वैन की ओर चल पड़ी .


शिखा कौशिक 'नूतन'

4 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

मैला मुँह में मजलिसी, मठाधीश मक्कार |
मढ़िया में मजबूरियाँ, जाय बचपना हार ||

मार्मिक-
आभार -

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

ये सबके सब आशाराम।

मत करना तुम इन्हें सलाम।

बगुलन के चाचाजी हैं ये ,

नेता करते इन्हें प्रणाम।

ये सबके सब आशाराम।
वीरुभाई (कैंटन ,मिशिगन )

शिखा जी चिंता यही है ये जेल को भी लालू की तरह बे -ऊर न बना दें।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अगर सही में जेल हो तो जेल अच्छे अच्छों को पवित्र कर देती है ... ये भी पवित्र हो जाएंगे ... हा हा ..